Translate

Sunday, May 24, 2020

निजी सचिव उप महानिरीक्षक सुरक्षा रेलवे एवं एन.एस.जी. कमांडो सक्सेस स्टोरी - श्री नवनीत जी व् श्रीमती विमला चक्रवती जी जबलपुर(म.प्र.)

संस्कारधानी जबलपुर के गौरव,एन.एस.जी. कमांडो सक्सेस स्टोरी- श्री नवनीत जी , श्रीमती विमला चक्रवती जबलपुर(म.प्र.) ,रनर क्लब जबलपुर
संस्कारधानी जबलपुर के गौरव रनर्स क्लब जबलपुर संस्थापक -श्री नवनीत जी 


मुख्य अंश :

  • जानें संस्कारधानी जबलपुर के गौरव श्री नवनीत ने कैसे शासकीय कार्य में होते हुए अपना जीवन प्रतिभाशाली बच्चों के जीवन को निखारने में लगा दिया।
  • जानें प्रतिभागी परीक्षाओ में प्रतियोगियों को कैसे शारीरिक दक्षता में निपूर्ण करते है श्री नवनीत।
  • आर्थिक रूप से कमजोर मगर प्रतिभाशाली व्यक्तियों का सम्पूर्ण खर्च वहन कर उन्हें शासकीय नौकरी के लिए चयनित करवाना।
  • जानें कैसे  श्रीमती विमला चक्रवती पत्नी श्री नवनीत ने  एन.एस.जी. कमांडो के रूप में संस्कारधानी जबलपुर (म.प्र.)  को गौरान्वित किया।


जानें संस्कारधानी जबलपुर के गौरव रनर्स क्लब जबलपुर के संस्थापक तथा  निजी सचिव उप महानिरीक्षक सुरक्षा रेलवे जबलपुर (म.प्र.) श्री नवनीत जी एन्ड फॅमिली के बारें में।


कहते है की दुनिया में ऐसा क्या है जो आदमी नहीं कर सकता , जरुरी है लगन , मेहनत और आत्म विश्वास की।

बस एक ऐसी ही छोटी सी स्टोरी आज मैं आपके सामने लेकर आया हूँ उस व्यक्ति और ऐसी फैमली  के बारे में जो निरंतर पिछले 13 वर्षो से लोगो लगातार लोगो की सेवा में निरंतर लगा हुआ है , जिसका मात्रा एक लक्ष्य है प्रतिभाशाली बच्चो की प्रतिभा को निखारना और उसे उसके मुकाम तक पहुंचना। 

जी हाँ ऐसे ही सख्श  का नाम है श्री नवनीत जिन्होंने अपनी संघर्षभरी जिंदगी में सबकुछ देखा और जब वर्ष 2001 में आप पश्चिम मध्य रेलवे  जबलपुर के सुरक्षा विभाग में शामिल हुये तब आपने करियर को यही खत्म नहीं माना। आप वर्ष 2001 से 2004 तक अखिल भारतीय रेलवे / रेलवे की एथलेटिक्स प्रतियोगिताओ में पश्चिम मध्य रेल का प्रतिनिधित्व किया। आपकी खेल के प्रति समर्पण भावना और खेल क्षेत्र में प्राप्त शिक्षा को देखते हुए रेलवे बोर्ड द्वारा स्वंय संज्ञान लेते हुए एक वर्षीय डिप्लोमा इन स्पोर्ट्स कोचिंग, एन आई एस  (एथलेटिक्स) पंजाब, पटियाला के लिए आपका नाम नामित किया जिसे आपने वर्ष 2006-2007 में सफलतापूर्वक प्रथम श्रेणी में भी उत्तीर्ण किया।

सच्चा आदमी वही है जो कभी रुकता नहीं सदैव अपने पथ पर चलता जाता है चलता जाता है और बस चलता ही जाता है क्योकि 'रुकने का नाम जिंदगी नहीं' है। ऐसी बात नहीं है की आदमी कभी थकता नहीं , आदमी ही थकता है , हारता है , टूटता है , पारिवारिक परेशानिया भी आती है परतुं सब लेकर चलता है। पर कभी रुकता नहीं है क्योकि "जिंदगी का नाम रुकना नहीं " कहते है न "जिंदगी रुक जाना नहीं" और "चलती का नाम गाड़ी"  , जिंदगी संघर्षमय है और जो इसे समय रहते समझ गया वही आज सफल इंसान है।


बस ऐसे ही सख्शियत का नाम है श्री नवनीत जिनमे हुनर है, जोश है, एथलेटिक्स है  और अपने जीवन के अनुभव से बच्चो का भविष्य बनाना जानते है बस यही कहते है हारना नहीं आज नहीं तो कल एथलेटिक्स परीक्षा में सफल होंगे जरूर बस हौसला रखना है। कामयाबी आपके कदम चूमेगी शायद यही वो जोश है जिससे आज तक आप 700+ बच्चों को उनके करियर पर पंहुचा चुके हो (विभिन्न शासकीय विभागों  में )। एक एवरेज माने तो करीब 50-60 बच्चे हर वर्ष आपके क्लब से विभिन्न शासकीय विभागों के लिए चयनित होते है।

 

  • जानें संस्कारधानी जबलपुर के गौरव श्री नवनीत ने कैसे शासकीय कार्य में होते हुए अपना जीवन प्रतिभाशाली बच्चों के जीवन को निखारने में लगा दिया ;

 

 जैसा मैंने ऊपर ही कहां दुनिया में ऐसा कुछ नहीं है  जो इंसान कर नहीं सकता , जरुरी है लगन , मेहनत और आत्म विश्वास की। परतुं यहाँ सबसे महत्वपूर्ण हो जाता है 'मार्गदर्शन' की क्योकि कई प्रतिभाशाली बच्चें ऐसे होते है जोकि सही 'मार्गदर्शन' के आभाव में प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल नहीं हो पाते और उम्र निकल जाती है।  हां आपमें प्रतिभा है तो आप कभी न कभी तो सफल होंगे जरूर पर इसका इंतज़ार में कही आपकी उम्र न निकल जाये जिससे आप आगे शासकीय  परीक्षाओं में भाग न ले सकें।

ऐसे ही बच्चो के भविष्य को लेकर श्री नवनीत ने वर्ष 2007 में रनर्स क्लब जबलपुर की स्थापना की, शरुआत  में सिर्फ 5 बच्चो को लेकर आगे चले जोकि आज 300+ तक संख्या पहुंच गयी है।

श्री नवनीत द्वारा 'राज्य व् केंद्र शासन के आधीन ऐसी नौकरिया जिसमे शारीरिक दक्षता की जरुरत होती है जैसे मध्यप्रदेश पुलिस हेतु सब इंस्पेक्टर/ सूबेदार /प्लाटून कमांडर/  आरक्षक/वन विभाग  , केंद्रीय विभाग जैसे इंडियन आर्मी / जेल प्रहरी / पैरा मिलिट्री / इंडियन रेलवे आदि  शारीरिक दक्षता परीक्षा से सम्बन्धी भर्ती हेतु निरंतर प्रशिक्षण प्रदान कर रहे है। 

 

  •  जानें प्रतिभागी परीक्षाओ में प्रतियोगियों को कैसे शारीरिक दक्षता में निपूर्ण करते है श्री नवनीत।

 

अपने प्रशासनिक कार्यो के अलावा प्रतिदिन प्रातः काल बच्चों को एथलैटिक्स में निपूर्ण बनाने के लिए जी जान से लगे रहते है, उन्हें प्रोत्साहित करते रहते है। आप ग्राउंड पर डिसिप्लिन मेन्टेन रखते है  तथा मिसबिहेव/अनुशासनहीनता बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करते , ग्राउंड में एक सख्त  प्रशिक्षक के रूप में आप की छवि देखने मिलती है। शारीरिक दक्षता परीक्षाओ में उत्तीर्ण होने  के लिए जरुरी ट्रिक्स और शारीरिक क्षमताओं को विकसित करने के लिए नये नये आधुनिक तकनीक का भी प्रयोग करते है। इसके ही परिणाम स्वरुप आज दिनांक तक लगभग  760+ बच्चों का राज्य शासन व् केंद्र शासन के आधीन विभिन्न विभागों में चयन हो चूका है जैसे:-

  • मध्य प्रदेश पुलिस में उपनिरीक्षक / सूबेदार /प्लाटून कमांडर -125 
  • मध्य प्रदेश पुलिस में आरक्षक के  पद पर -300
  • मध्य प्रदेश जेल प्रहरी के  पद पर -70
  • मध्य प्रदेश वन विभाग के पद पर -25
  • केंद्रीय पैरा मिलिट्री फाॅर्स में -50
  • रेलवे प्रोटेक्शन फाॅर्स -50
  • रेलवे ग्रुप  डी -100
  • इंडियन आर्मी -40

 तथा अन्य।

आज भी श्री नवनीत जी से प्रशिक्षित छात्र उन्हें बहुत मानते है जैसे की वर्ष 2010 में मध्यप्रदेश पुलिस में महिला आरक्षक पद पर चयनित उम्मीदवार मंजरी विश्वकर्मा व् पूजा विश्वकर्मा ने बताया की नवनीत सर को वे अपने बड़े भाई की तरफ मानती है तथा वे भी उन्हें बहुत सम्मान देते है ये वो पल है जो गुरु और शिष्य के लिए मन में आदर्श बन जाते है। वे आगे कहती है की इनकी ही प्रशिक्षण में प्रथम प्रयास  में ही मध्यप्रदेश पुलिस में सफलता  प्राप्त की। आज वर्तमान में  महिला आरक्षक श्रीमती मंजरी विश्वकर्मा  एवं महिला आरक्षक श्रीमती पूजा विश्वकर्मा जिला जबलपुर में पदस्थ है।

 

  • आर्थिक रूप से कमजोर मगर प्रतिभाशाली व्यक्तियों का सम्पूर्ण खर्च वहन कर उन्हें शासकीय नौकरी के लिए चयनित करवाना।

 

श्री नवनीत प्रतिवर्ष 10 ऐसे प्रतिभाशाली बच्चो का सिलेक्शन करते है जो कि आर्थिक रूप कमजोर से होते है उनका सम्पूर्ण खर्च जैसे कोचिंग क्लास की पूरी फीस, बुक्स ,फिजिकल ट्रेनिंग हेतु  किट , शूज़ आदि रनर क्लब जबलपुर के माध्यम उपलब्ध करायी जाती है। कहते है है जो भाग्य में लेकर आया है वही लेकर जायेगा पर हम भाग्य को बदलने की कोशिश भी न करें ये तो गलत बात है।

आप अपनी मेहनत की लकीरो से भाग्य की लकीरों को बदल सकते हैं , हमारे ऐसे है नवनीत जी। जिन्होंने आज जबलपुर संस्कारधानी ही नहीं अपितु पुरे मध्यप्रदेश को गौरान्वित किया है।

 

जानें कैसे  श्रीमती विमला चक्रवती पत्नी श्री नवनीत ने  एन.एस.जी. कमांडो के रूप में संस्कारधानी जबलपुर (म.प्र.)  को गौरान्वित किया।


Runner's_Club_Jabalpur

 एन.एस.जी. कमांडो का नाम तो सबने सुना होगा नेशनल सिक्योरिटी गार्ड कमांडो जिन्हे कुख्यात सर्विसेज के लिए जाना जाता है और वे हर तरफ की परिस्थियों में देश की रक्षा करने के लिए सक्षम होती है वही है अपने जबलपुर की तथा श्री नवनीत जी की पत्नी श्रीमती विमला चक्रवती जी। 

आपको भी एथलैटिक्स में कुशलता हासिल है जिसके बदौलत आपने राष्ट्रीय स्तर प्रतियोगिताओ में गोल्ड ,सिल्वर और ब्रॉन्ज मैडल प्राप्त किये है। आप अपने 25 वर्ष के सेवा काल में 6 वर्ष एन.एस.जी. कमांडो के रूप में कार्य  किया जिससे सम्पूर्ण संस्कारधानी गौरान्वित है। इस दौरान आपने श्री अखलेश यादव की सुरक्षा में 6 माह , श्री मुलायम सिंह यादव की सुरक्षा में 6 माह , श्री मायावती जी की सुरक्षा में 18 माह बतौर एन.एस.जी. कमांडो अपनी अहम सेवायें प्रदान की है। आपकी विशिष्ट सेवाओं की बदौलत आपको डी.जी.एन.एस.जी. पदक से सम्मानित किया गया।

 

इतना ही नहीं श्री नवनीत जी और श्रीमती विमला चक्रवती जी के बच्चे भी एथलैटिक्स में अपने माता - पिता से कही कम नहीं है , आपकी बच्ची एन सुचित्रा अपने स्कूल केंद्रीय विद्यालय की एथलैटिक्स प्रतियोगिताओं में भाग लेने में अव्वल है जिससे इन्हे 2 गोल्ड व् सिल्वर मैडल प्राप्त किया है एस.जी.एफ.आई. में जबलपुर का प्रतिनिधित्व किया है। मध्यप्रदेश ओपन स्टेट प्रतियोगिताओ में  एन सुचित्रा ने 400 मीटर दौड़ व् 800 मीटर की दौड़ में 2 गोल्ड मैडल प्राप्त किये है।

Runners_Club_Jbp

तथा आपके मास्टर एन सिद्धार्थ ने केंद्रीय विद्यालय के रीजनल प्रतियोगिता के 14 वर्ष से कम उम्र के बालक समूह में गोला फेंक की प्रतियोगिता में केंद्रीय विद्यालय सी.एम.एम. जबलपुर का प्रतिनिधित्व कर गोल्ड मैडल प्राप्त किया है। 

हम सब आपका श्री नवनीत तथा आपकी फॅमिली का धन्यवाद करते है जिससे हमारे जबलपुर को गौरान्वित होने का मौका दिया सही ही आपके मंगलमय जीवन की कामना करते है ही आपका यह सहयोग जबलपुर संस्कारधानी के लिए आगे भी निरंतर जारी रहेगा। "जननी कर्मःभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी"

"अपने सोए अरमानो को हर रोज उसने जगाया है,

आज बुलंदियों को छूकर उसने देश को आगे बढ़ाया है "

Runner's_Club_Jbp_M.P.
ग्रुप पिक्चर-म.प्र. पुलिस कांस्टेबल रनर्स क्लब बैच नंबर 12

Runner's_Club_Jabalpur_M.P._navneet_Sir
ग्राउंड पिक्चर - श्री नवनीत जी रनर्स क्लब जबलपुर 


33 comments:

  1. गुरूजी जी कलयुग के देवता है 🙏

    ReplyDelete
  2. I am proud that I am a part of your institute, sports is not only taught in your institute but also morality thank u jai hind sir

    ReplyDelete
  3. I am proud that I am a part of your institute, sports is not only taught in your institute but also morality thank u jai hind sir

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत धन्यवाद गुरू जी जो आपने हम सभी लोगो को सही मार्ग दिखा इस काबिल बनाया ,जबलपुर की आन बान शान हमारा रनर्स कल्ब, जय हो गुरूदेव जी

    ReplyDelete
  5. मेरे ख्याल से नवनीत जबलपुर रीज़न के बेस्ट कोच हैं।
    खास बात यह कि नवनीत सर जितने अच्छे कोच हैं उतने ही अच्छे इंसान भी हैं उन्होंने कितने ही बच्चो का जीवन बनाया हैं, मैं भी उनमे से एक हूँ। थैंक्यू सर।🙏
    रनर्स क्लब एक इंस्टिट्यूट ही नही एक परिवार भी हैं और मुझे ख़ुशी हैं कि मैं इस परिवार का हिस्सा हूँ।😊

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद सर जी 🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  7. Best coach ever in Jabalpur

    ReplyDelete
  8. Bs itna khna chahunga" Mnjite to hmesa hi apni jagah pe thi...... Aapne bahuto ko unse milwaya h"
    "ANSH"

    ReplyDelete
  9. Congratulations sirji💐💐 I'm proud that I'm ur student....
    Mei Jo bhi hu apke mehnat or ashirwad s hu...thanku so much sir 🤗☺️

    ReplyDelete
  10. Congratulations sirji💐💐 I'm proud that I'm ur student....
    Mei Jo bhi hu apke mehnat or ashirwad s hu...thanku so much sir 🤗☺️

    ReplyDelete
  11. हमारे मित्र बड़े भाईतुल्य परम आदर्णीय नवनीत जी और उनके परिवार का छात्रों के लिए किया गया योगदान अतुलनीय है मेरे मन मे उनके लिए यही भाव आते है कि,
    "चंद शब्दो मे क्या बयाँ कर उस शख्स की कहानी,
    जो दुसरो को सफल बनाने के लिए अपना सारा जीवन लगा बैठा है।"
    आपका मित्रसह छोटाभाई
    "अजय"

    ReplyDelete
  12. Congratulations sir ������

    ReplyDelete
  13. आप एक शिक्षक ही नहीं एक दोस्त की तरह अपने विद्यर्थियों को शिक्षित करते हैं और आप जैसा गुरु पाकर जबलपुर संस्कारधानी धन्य है हम आज जो कामयाब हुए हैं आपके ही आशिर्वाद से ।
    आप जैसा गुरु पाकर हम धन्य हैं ।
    आपका विद्यार्थी - रोहित कोठाले (भारतीय रेल)
    Congratulations Sir ji 🙏🙏

    ReplyDelete
  14. वास्तव में आज पूरे महाकोशल प्रान्त,पुरे मध्यप्रदेश में हमारे आदरणीय गुरुदेव नवनीत सर् जी जैसे बेस्ट कोच ,व ऎसी एथलेटिक्स कोचिंग कहि नही मिलेगी , जहाँ पर एक पाठ बाबा की पहाड़ियों का सुंदर चेह -चहाते पंछियों की आवाज के अलावा, सूंदर प्रदूषण मुक्त वायु, व स्वस्थ सुन्दर वातावरण, हो जहा पर लोग एक परिवार के रूप रहते हो। यह एक वास्तव में एक संस्था ही नही एक हमारा परिवार होता है।
    हर कोई एक अपने जीवन मे सफ़लता पाने के लिए सदैव एक्टिव होता है , किसी को सफलता जल्द हाशिल हो जाती है किसी को बहोत समय बाद मिलती है । सफलता मिलती जरुर है ।
    रनर्स क्लब में हमारे गुरु जी ने लोगो को सफल बनाने में अपना सारा जीवन लगा दिया ,जहाँ पर एथलेटिक्स से जयदा sir लोगो के वर्क आउट में ध्यान देते थे।
    नवनीत सर जितने अच्छे कोच हैं उतने ही अच्छे इंसान भी हैं उन्होंने कितने ही बच्चो का जीवन बनाया हैं, मैं भी उनमे से एक हूँ। जरूरी नही की आप सरकारी नोकरी में हो हा गुरु जी के सिखाये हुए हुनर से आप बहोत कुछ कर सकते हो थैंक्यू सर।��
    मुझे ख़ुशी हैं कि मैं इस परिवार का हिस्सा हूँ।��
    " बलबीर सिंह"

    ReplyDelete
  15. प्रणाम गुरूदेव 🙏

    ReplyDelete
  16. Amit Kosta Indian RailwayMay 25, 2020 at 1:52 PM

    Congratulations Sir... Our wishes is always with u.... Proud to be the part of ur Club... What I am now is only because of u...

    ReplyDelete
  17. Congratulations sir sach me sir ki baat hi alag aaj k is kalyug me aese teacher bahot nasib se milte h jo teacher kam ek achhe dost bhai or pita ki tarah apne students ka dhyan rakhte h jinse hum apni sari problem Sher kar sakte h sir best ho thanku so much sir ki hum aapke culb ke student hai.

    ReplyDelete
  18. A very hearty congratulations to you sir....💐💐💐
    He is an inspiration for all the other TEACHERS also...those who give such an importance to the MONEY....Mr.Navneet ji is not that kind of guy....
    Iska anubhav myne khud apne INSTITUTE AIM ACADEMY se bachcho ko unke paas bhej kr kiya hy....Aj ki society ko zarurat hy ayse SHIKCHHAKO KI.
    I m vry happy that I m working with him as a friend as well as the younger brother also.
    I m alwayzzzzzz.... with you sir...jysa ki aap hamesha mujhse kehte ho k...SIR APAN LOGO KO BAHOT DOOR TK JANA HY...👍👍👍
    God bless you....💐💐💐💐🙏🏼

    ReplyDelete
  19. Sir ke saamne. Shabd kum hai....

    ReplyDelete
  20. सर के रूप में मुझे एक ऐसे बडे भाई मिलें है जिन्होंने हमेशा ही सहयोग रूप में अपना आशीर्वाद और मार्गदर्शन दिया है हम आप के चरणों में शत् शत् नमन करते हैं
    धन्यवाद बडे भैया (सर)।

    ReplyDelete
  21. Congratulate sir app isee tarh humlogo ko margdarsan dete rahe apka pyar sabhi ko milta rahe

    ReplyDelete
  22. Congratulations sir for this beautiful story.......always keep ur blessing with us..

    ReplyDelete
  23. Gourav vishwakarmaMay 26, 2020 at 11:07 AM

    Congratulations sir...

    ReplyDelete
  24. आदरणीय गुरु जी को सादर चरण स्पर्श
    जीवन में आपके जैसे गुरु सभी को मिले ईश्वर से ऐसी प्रार्थना करता हूं
    श्री महाकाल का आशीर्वाद आप पर यूं ही सदा बना रहे
    आपका शिष्य
    वैभव मिंडोले
    आरक्षक R.P.F.

    ReplyDelete
  25. AKHILESH KUMAR JHARIYAMay 28, 2020 at 5:56 PM

    मेरे जीवन के जो सुख है वह सब आपकी बदौलत है गुरुदेव इसके लिए मैं आपका जीवन भर ऋणी रहूंगा।

    ReplyDelete

गरीब,लावारिस व असहायों का मसीहा - मोक्ष संस्थापक श्री आशीष ठाकुर । (Part-01)

गरीब,लावारिस व असहाय लोगों का मसीहा - मोक्ष संस्थापक श्री आशीष ठाकुर । छू ले आसमां जमीन की तलाश ना कर , जी ले जिंदगी ख़ुशी की तलाश ना कर , ...